नारी की व्यथा

portrait, asian, girl-5600556.jpg


नारी अपनी व्यथा भी
कहाँ व्यक्त कर पाती है l
दूसरों के लिए स्वयं के
दर्द को भी भूल जाती है l

कभी माँ स्वरूप बच्चों की
जिम्मेदारी उठाती है l
कभी पत्नी स्वरूप घर में
सामंजस्य बिठाती है l

कभी बेटी स्वरूप पढ़ाई संग
घरेलू काम कर दिखाती है l
कभी बहू स्वरूप सास ससुर से
घर की अनुमति मांगती है l

कभी बहन स्वरूप माता पिता
और भाई के बीच सेतु बनाती है l
कभी सबका ख्याल रखते हुए
स्वयं को नजरअंदाज कर जाती है l

नारी अपनी व्यथा भी
कहाँ व्यक्त कर पाती है l
दूसरों के लिए स्वयं के
दर्द को भी भूल जाती है l
Satya Prakash Sharma

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *